Friday, May 8, 2015

Maharana Pratap - Hindi





‌‌‌‌‌‌‌महाराणा प्रताप ( जन्म: 9 मई, 1540 ई, - मृत्यु: 29 जनवरी, 1597 ई.  शासन काल 1568-1597 ई. ) उदयपुर, मेवाड़ में सिसोदिया राजवंश के राजा थे। उन्होंने कई सालों तक मुगल सम्राट अकबर के साथ संघर्ष किया।

हल्दीघाटी युध

प्रताप और जहाँगीर का संघर्ष

हल्दीघाटी के इस प्रवेश द्वार पर अपने चुने हुए सैनिकों के साथ प्रताप शत्रु की प्रतीक्षा करने लगे। दोनों ओर की सेनाओं का सामना होते ही भीषण रूप से युद्ध शुरू हो गया और दोनों तरफ़ के शूरवीर योद्धा घायल होकर ज़मीन पर गिरने लगे। प्रताप अपने घोड़े पर सवार होकर द्रुतगति से शत्रु की सेना के भीतर पहुँच गये और उस जगह पर पहुँच गये, जहाँ पर 'सलीम' (जहाँगीर) अपने हाथी पर बैठा हुआ था। प्रताप की तलवार से सलीम के कई अंगरक्षक मारे गए और यदि प्रताप के भाले और सलीम के बीच में लोहे की मोटी चादर वाला हौदा नहीं होता तो अकबर अपने उत्तराधिकारी से हाथ धो बैठता। प्रताप के घोड़े चेतक ने अपने स्वामी की इच्छा को भाँपकर पूरा प्रयास किया और तमाम ऐतिहासिक चित्रों में सलीम के हाथी के सूँड़ पर चेतक का एक उठा हुआ पैर और प्रताप के भाले द्वारा महावत का छाती का छलनी होना अंकित किया गया है। महावत के मारे जाने पर घायल हाथी सलीम सहित युद्ध भूमि से भाग खड़ा हुआ।


इस समय युद्ध अत्यन्त भयानक हो उठा था। सलीम पर प्रताप के आक्रमण को देखकर असंख्य मुग़ल सैनिक उसी तरफ़ बढ़े और प्रताप को घेरकर चारों तरफ़ से प्रहार करने लगे। प्रताप के सिर पर मेवाड़ का राजमुकुट लगा हुआ था। इसलिए मुग़ल सैनिक उसी को निशाना बनाकर वार कर रहे थे। राजपूत सैनिक भी उसे बचाने के लिए प्राण हथेली पर रखकर संघर्ष कर रहे थे। परन्तु धीरे-धीरे प्रताप संकट में फँसता जा रहे थे। स्थिति की गम्भीरता को परखकर 'झाला सरदार' ने स्वामिभक्ति का एक अपूर्व आदर्श प्रस्तुत करते हुए अपने प्राणों का बलिदान कर दिया। झाला सरदार 'मन्नाजी' तेज़ी के साथ आगे बढ़ा और प्रताप के सिर से मुकुट उतार कर अपने सिर पर रख लिया और तेज़ी के साथ कुछ दूरी पर जाकर घमासान युद्ध करने लगा। मुग़ल सैनिक उसे ही प्रताप समझकर उस पर टूट पड़े और प्रताप को युद्ध भूमि से दूर निकल जाने का अवसर मिल गया। उसका सारा शरीर अगणित घावों से लहूलुहान हो चुका था। युद्धभूमि से जाते-जाते प्रताप ने मन्नाजी को मरते देखा। राजपूतों ने बहादुरी के साथ मुग़लों का मुक़ाबला किया, परन्तु मैदानी तोपों तथा बन्दूकधारियों से सुसज्जित शत्रु की विशाल सेना के सामने समूचा पराक्रम निष्फल रहा। युद्धभूमि पर उपस्थित बाईस हज़ार राजपूत सैनिकों में से केवल आठ हज़ार जीवित सैनिक युद्धभूमि से किसी प्रकार बचकर निकल पाये।



Maharana Pratap Hindi Serial All Episodes Index:  https://www.youtube.com/show/bharatkaveerputramaharanapratap


Maharana Pratap - Book in Hindi
Google Book Link with Preview facility
http://books.google.co.in/books?id=az1QX5x6TMQC


Rana Pratap
Premchand
Alekh Prakashan, 01-Jan-2008 - 32 pages
http://books.google.co.in/books?id=tkmsMPn5v30C

Rana Pratap - Bharat Discovery Org Hindi article - Very detailed article




Serial Episode 6 May 2015 - 412
_________________

_________________

SET India

Maharana Pratap - Biography


Birthday - 9 May 1540

Maharana Pratap (May 9, 1540 – January 19, 1597) was a Hindu Rajput ruler of Mewar, a region in north-western India in the present day state of Rajasthan. He belonged to the Sisodiya sect of Rajputs

Rana Pratap is considered to exemplify the qualities like bravery and chivalry to which Rajputs aspire, in  his opposition to the Mughal emperor Akbar. The struggle between Rajputs led by Rana Pratap , and the Mughal Empire under Akbar, has often been characterised as a struggle between Hindus and the invading Muslims, much on the same lines as the struggles of Guru Gobind Singh,  Chhatrapati Shivaji and Chhatrasal Bundela.

Rana Pratap was defeated in Battle of Haldighati but he escaped into the hills and successfully recovered his territories except Chittorgarh and ruled them till his death without accepting the authority of Akbar.

Maharana Pratap - Video Serial on Sony Television


All Episodes Index Page:   https://www.youtube.com/show/bharatkaveerputramaharanapratap



Episode 412 - 6 May 2015
________________

________________
SET India

Episode 44
________________

________________.


Maharana Pratap
Bhawan Singh Rana
Diamond Pocket Books (P) Ltd., 01-Jan-2005 - Udaipur (India : Princely State) - 152 pages
On the life and achievements of Maharana Pratap, 1540-1597, King of Udaipur.
http://books.google.co.in/books?id=K0UnRk-rRa4C


Maharana Pratap : Mewar'S Rebel King (Google eBook)
Brishti Bandyopadhyay
Rupa Publications, 01-Jan-2007 - India - 44 pages
On Pratap Singh, Rana of Mewar, 1540-1597.
http://books.google.co.in/books?id=kA0qHC50gq8C

Tuesday, May 5, 2015

5 May - Day in History of India and Importance


1887 - Garhwal Rifles as a regiment came into being.
            http://indianarmy.nic.in/Site/FormTemplete/frmTempSimple.aspx?MnId=oyWtak5cXCF67I4gEyW/zQ==&ParentID=mo0/whN+tgM0Bnqe9L2EJg==&flag=ni5tVpwgM04iTVuj+LhbYA==

1944 - Gandhi - Jinnah talks broke down.
1955 - Parliament approved Hindu divorce bill.
1977 - Chandra Sekhar was chosen as President of Janata Party
1992 - Prithvi launched.


Birthdays


1479 - Guru Amardasji

Zail Singh,

Pithapuram Nageswara Rao

Gulshan Kumar


http://www.indianage.com/0505.html

20 May - Day in History of India and Importance


1378 - Daud Shah assasinated Mujahid Shah to become the fourth Bahmani Sultan.
1399 - 1399 - Sant Kabir was born
1498 - Vaso Da Gama reached Calicut  by travelling on the sea. The European to find a new sea route to India.
1677 - Shivaji won the fort of Jingi
1915 - Gandhiji founded Sabarmati Ashram.
1976 - Oil production was started from Bombay High.
2014 - Narendra Modi was elected as the leader of BJP Parliamentary Party in the 16th Lok Sabha. Modi met Rashtra Prati and staked his claim for PM post. President invited Narendra Modi to become the PM. Modi will take oath on 26 May 2014.



Birthdays

1399 - Sant Kabir
1750 - Tipu Sultan
1850 - Vishnu Shastri Chiplunkar - Father of Modern story writing in Marathi
1968 -  Ananta Kumar Hedge - BJP General Secretary, Lok Sabha Member
1960 - Bhoopendra Singh - 2009 Lok Sabha Member
1964 - P.T. Usha
NTR Jr. (1983)


http://www.indianage.com/0520.html